Components of Food l भोजन के मुख्य अवयव

 

Components of Food /भोजन के मुख्य अवयव

  1. कार्बोहाइड्रेट
  2. प्रोटीन
  3. वसा 
  4. विटामिन
  5. न्यूक्लिक अम्ल
  6. खनिज लवण
  7. जल

 

कार्बन की उपस्थिति तथा अनुपस्थिति के आधार भोजन के अवयवो/Food Components  को दो भागों में बांटा गया है -:
  1. कार्बनिक यौगिक
  2. अकार्बनिक यौगिक 

 

कार्बनिक यौगिक – 

  1. कार्बोहाइड्रेट
  2. प्रोटीन
  3. वसा
  4. विटामिन
  5. न्यूक्लिक अम्ल

 

अकार्बनिक यौगिक –

  1. जल(H2O)
  2. खनिज लवण

 

 

शरीर की आवश्यकता के आधार पर भी Food Components  2  भागों में बांटा गया है -: 
  1. दीर्घ मात्रिक
  2. सूक्ष्म मात्रिक

 

दीर्घ मात्रिक  – : यानि शरीर को इनकी अधिक आवश्यकता होती है ।

  • कार्बोहाइड्रेट -60%
  • प्रोटीन -15%
  • वसा -25%

 

सूक्ष्म मात्रिक – :  इनकी हमारे शरीर को कम मात्रा में आवश्यकता होती है । 

  • जल
  • खनिज लवण
  • विटामिन
  • न्यूक्लिक अम्ल

 

१. Carbohydrates/कार्बोहाइड्रेट-

रासायनिक रुप से कार्बोहाइड्रेट्स पोलिहाइड्राक्सी एल्डिहाइड या पोलिहाइड्राक्सी कीटोन्स होते हैं तथा स्वयं के जलीय अपघटन के फलस्वरुप पोलिहाइड्राक्सी एल्डिहाइड या पोलिहाइड्राक्सी कीटोन्स देते हैं।

  • कुछ कार्बोहाइड्रेट्स सजीवों के शरीर के रचनात्मक तत्वों का निर्माण करते हैं
    जैसे कि सेल्यूलोज, हेमीसेल्यूलोज, काइटिन तथा पेक्टिन।

 

  • जबकि कुछ कार्बोहाइड्रेट्स उर्जा प्रदान करते हैं –
    जैसे – glucose

 

  • Main source – : मक्का , चावल , आलू , गेहूं , बाजरा

 

  • कार्बोहाइड्रेट की मूल इकाई है – शर्करा (Sugar)

(A).मोनोसैकेराइड ( Monosaccharides) -:

  • जिनके अंदर शक्कर/ शर्करा की केवल एक इकाई मौजूद हो।
  •  ये सबसे सरल शर्करा हैं।
  • इनका जलीय अपघटन संभव नहीं होता है।
  • ये जल में विलेय होते हैं (Water Soluble)
  • मोनो का अर्थ होता है – एक
  • The general formula is  C ₙH ₂ₙO ₙ

Ex. ग्लूकोज़ , फ्रक्टोज़ , गेलैक्टोज

 

ग्लूकोज़ (dextrose) -: 

  1. इसे अंगूर शर्करा (grapes sugar) भी कहा जाता है।
  2. Athlete खिलाड़ियों को तुरंत energy मिल सके इसके लिए उनको कार्बोहाइड्रेट के रूप में glucose दिया जाता है।

 

फ्रक्टोज़ –

  1. इसे फलों की शर्करा ( fruit sugar) कहा जाता है।
  2. मधुमक्खी के शहद में fructose नामक शर्करा पायी जाती है।
  3. प्राकृतिक रूप से सबसे मीठी शर्करा भी यही होती है।

NOTE – कृत्रिम रूप से सबसे मीठी शर्करा – सैकेरिन

 

गेलैक्टोज-

  1. इसे brain sugar कहा जाता है ।

 

(B) डाईसेकेराइड(Disaccharide)

  • इनका निर्माण मोनोसैकेराइड की 2 इकाइयों के जुड़ने से होता है , ये इकाइयां आपस मे glycosidic Linkage द्वारा जुड़ती है।
  • Water Soluble
  • general formula  -:  C12H22O11
  • Also called a double sugar or bivose

 

लैक्टोज – milk sugar

सुक्रोज – cane शुगर ( गन्ने एवं चुकंदर से प्राप्त)

माल्टोज – Malt शुगर ( जौ , जई , अंकुरित अनाज से

प्राप्त)

 

 

(C).ओलिगोसेकेराइड (oligosaccharide)-:

मोनोसैकेराइड की 3 से 10 इकाइयों के जुड़ने से बनते है।
Ex. Raffinose

 

 

(D). पोलिसेकेराइड –

  • इसका निर्माण  मोनोसैकराइड्स की कई इकाइयों के जुड़ने से होता है। (10 से लेेेकर 1000 या इससे अधिक)
  • ये पानी में अविलेय होते हैं।

Ex. सेल्यूलोस, ग्लाइकोजन, स्टार्च, काइटिन

 

● सेल्यूलोस – पादप कोशिकाओं का सबसे बाहर का आवरण ( cell wall) सेल्यूलोस का बना होता है

ग्लाइकोजन – जीव जंतुओं में भोजन ग्लाइकोजन के रूप में संचित रहता है

स्टार्च/ मण्ड – पेड़ – पौधों में भोजन स्टार्च के रूप में संचित होता है

काइटिन – ऑर्थोपोड़ा संघ (Arthropoda) के प्राणियों का बाहरी आवरण काइटिन का बना होता है ।

 

 

(2). प्रोटीन (Protein) -: 

  • अमीनो अम्ल पेप्टाइड बन्धो द्वारा जुड़कर प्रोटीन का निर्माण करते हैं।
  • यानि ये अमीनो अम्लों के बहुलक होते हैं।
  •  Main source – सोयाबीन , मांस, दाल ,मछली ,
  • प्रोटीन में C, H, O के अलावा नाइट्रोजन व सल्फर तत्व भी पाए जाते है।
  • protein की मूल इकाई Amino acid होती है।
  • शरीर निर्माण के लिए कुल 20 अमीनो अम्लों की आवश्यकता होती है।
  • पौधे अपनी जरूरत के अमीनो अम्ल का संश्लेषण स्वयं कर लेते हैं, परन्तु जंतुओं की कुछ कोशिकाएँ इनमें से कुछ अमीनो अम्ल तैयार कर सकती है, लेकिन जिन अमीनो अम्लों का शरीर कोशिकाऐं  संश्लेषण नहीं कर पाती उन्हें जंतु अपने भोजन से प्राप्त कर लेते हैं,  इन अमीनो अम्ल को अनिवार्य या आवश्यक अमीनो अम्ल कहते हैं।
  • मनुष्य के अनिवार्य अमीनो अम्ल लिउसीन, आइसोलिउसीन, वेलीन, लाइसीन, ट्रिप्टोफेन, फेनिलएलानीन, मेथिओनीन एवं थ्रेओनीन हैं।
  • पौधों से मिलने वाले खाद्य पदार्थों में सोयाबीन में सबसे अधिक मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। इसमें 40 प्रतिशत से अधिक प्रोटीन होता है।

 

प्रोटीन का कार्य –

  1.  शरीर निर्माण तथा शरीर की मरम्मत करना।
  2. एन्जाइम के रूप में शरीर की जैव रासायनिक क्रियाओं का संचालन करना है।
  3. प्रोटीन त्वचा, रक्त, मांसपेशियों तथा हड्डियों की कोशिकाओं के विकास के लिए आवश्यक होते हैं।

 

 

(3).वसा (Fat)

  • वसा शरीर को ऊर्जा प्रदान करती है।
  • यह ग्लिसरॉल व वसा अम्ल का एस्टर होता है।
  • इसमें कार्बन , हाइड्रोजन ,ऑक्सीजन उपस्थित होते हैं।
  • मानव शरीर मे वसा Adipose Tissue यानी वसा ऊतक के रूप में जमा होती है।

 

 वसा का कार्य –

1.  शरीर को ऊर्जा प्रदान करना।

2. Food को tasty बनाती है।

3. यह त्वचा के नीचे जमा होकर शरीर के ताप को बाहर निकलने से रोकती है।

4. 1 Gm वसा से प्राप्त ऊर्जा – लगभग 9 कैलोरी

 

 

(4).Vitamins/विटामिन

Continue to read – Vitamins

 

 

(5).न्यूक्लिक अम्ल – 

  • न्यूक्लिक अम्ल कार्बन , हाइड्रोजन ,ऑक्सीजन ,फॉस्फोरस , नाइट्रोजन , के जैव बहुलक होते है।
  • ये Nucleotides की श्रंखला होते है जिनमें Sugar , Phosphate Group व Nitrogenous Base होते हैं।
  • इन्हें DNA व RNA के रूप में जाना जाता है।
  • कार्बनिक यौगिक होते है।

 

कार्य –

◆ आनुवंशिक गुणों को एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में पहुंचाना।

◆प्रोटीन संश्लेषण का नियंत्रण करना ।

◆ इन अणुओं में आनुवंशिक सूचनाएं होती है तथा जो आनुवंशिक गुणों के निर्धारण में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते है।

 

 

(6).खनिज तत्व/Minerals-

दीर्घ मात्रिक तत्व -:

● Na – सोडियम
● Cl+ –  क्लोराइड
● K –  पोटैशियम
● P –  फास्फोरस
● S –    सल्फर
● Ca – कैल्शियम
● Mg – मैग्नीशियम

NOTE – P , S, Ca हड्डी निर्माण में सहायता करते हैं।

 

सूक्ष्म मात्रिक तत्व  – :

● Fe – आयरन
● Co – कोबाल्ट
● I – आयोडीन
● F – फ्लोरिन

 

 

खनिज तत्वों के कार्य –

 

1. कैल्शियम व फॉस्फोरस-: 

  • हड्डियों व दांतो के विकास के लिए आवश्यक

 

2. लौह (IRON) -: 

  • हीमोग्लोबिन का मुख्य तत्व
  • ऑक्सीजन के परिवहन में सहायक

 

3.आयोडीन (IODINE) -:

  • थाइरोइड ग्रन्थि के लिए आवश्यक
  • उपापचयी क्रियाओं के लिए आवश्यक

 

4. सोडियम व पोटेशियम -: 

  •  शरीर मे पानी की सामान्य मात्रा का रख-रखाव
  • तंत्रिका आवेगों के संचरण में सहायक

 

 

(7).जल (Water) –

  • एक व्यक्ति को औसतन 4 से 5 लीटर जल daily पीना चाहिए।
  • जल की कमी से body में Dehydration (निर्जलीकरण) हो जाता है।

 

जल का कार्य -:

शरीर में ताप नियंत्रण में सहायता करता है।

 

 

Important about Components of Food –

 

गैर-ऊर्जा घटक (Non-energy components) -:

निम्न पोषक तत्वों से शरीर को कोई ऊर्जा नहीं मिलती।

👉  विटामिन (Vitamin)

👉 खनिज (Minerals)

👉 फाइबर आहार (Dietary Fibre)

👉 जल (Water)

 

 

 

Biology  Links-

Fungi: Useful And Harmful Fungi Human Digestive System
Bacteria – Definition, Structure, Diagram, Classification Human Skeleton System
Virus – Discovery, Types, Diseases Components of Food l भोजन के मुख्य अवयव
Vaccine – Definition, Disvovery, Types, Importance Vitamins : Discovery, Types, Diseases
Nutrition – Modes Of Nutrition In Living Cell : Discovery, Types, Diffusion
Blood Vessels : Arteries, Veins, Capillaries Animal Cell – Types, Definition, Discovery, Structure, Functions

 

 

Biology Questions-

General Science Biology Questions – 01
General Science Biology Questions – 02
General Science Biology Questions – 03
General Science Biology Questions – 04
General Science Biology Questions-05

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Comment