Hormones : Types & Functions l हॉर्मोन्स l

Hormones –

◆ ऐसे रासायनिक पदार्थ जो कोशिकाओं व अंगो के कार्यो को नियंत्रित करने के लिए शरीर की अन्तः स्रावी ग्रन्थियों द्वारा मुक्त (Release) किये जाते हैं।

अन्तः स्रावी ग्रन्थियां नलिका विहीन (Ductless) होती है,जो सीधे Blood में अपना स्राव (Hormones)  छोड़ती हैं ,तथा Blood के माध्यम से होर्मोन सम्बंधित अंग तक पहुंचकर अपना कार्य करते हैं।

◆ Also Called -: “Chemical messenger”
अर्थात इन्हें रासायनिक सन्देशवाहक भी कहा जाता है।

 

Hormones/हॉर्मोन्स 2 तरह के होते है -: 

(1).पेप्टाइड हॉर्मोन्स

(2).स्टेरॉइड हॉर्मोन्स

 

(1). peptide Hormones -: 

● अमीनो एसिड के बने होते हैं।

● पानी में घुलनशील (Water- Soluble) होते हैं।

●  Target cell की कोशिका झिल्ली को पार करने में Unable

● इनके Receptors (ग्राही) कोशिका की सतह (Surface ) पर होते हैं।

EX. – इंसुलिन

 

(2). Steroid Hormones -:

● सभी स्टेरॉइड हॉर्मोन्स cholesterol से उत्पन्न होते हैं।

● वसा में घुलनशील होते हैं

● target Cell की कोशिका झिल्ली को पार करने में   Able

● इनके Receptors (ग्राही) Cytoplasm या केन्द्रक में होते हैं।

EX. – Sex Hormone

 

Function Of Hormones/हॉर्मोन्स के कार्य 

  • ये उपापचयी क्रियाओं का नियंत्रण करते हैं जैसे – थायरोक्सिन होर्मोन
  • जीवों की व्रद्धि व विकास में सहायक जैसे – वृद्धि होर्मोन
  • रक्त चाप का नियंत्रण , ह्रदय स्पंदन दर का नियमन
  • ताप का नियमन
  • शरीर में Sugar level का नियमन
  • Sex Hormon  Egg , Sperm का विकास (Developmemt)

 

 

Important Points -

◆ Target Cell – वह कोशिका जहां होर्मोन अपना कार्य करते है।

◆ Receptores (ग्राही) – Target कोशिका के केन्द्रक में, कोशिका द्रव्य में या फिर कोशिका झिल्ली में ये ग्राही होते हैं जिनसे होर्मोन जुड़ जाते हैं।

 

 

■ Biology Terms -: 

◆ Cytoplasm – कोशिका द्रव्य

◆ Nucleus  – केन्द्रक

◆ plasma Membrane –  कोशिका झिल्ली

◆ Receptores – ग्राही

◆ Target Cell – लक्ष्य कोशिका

 

Sex Hormones - Role In Reproductive Functions 

जनन में होर्मोन की भूमिका 

जनन अंग (Gonads) –

● जनन अंग उन अंगो को कहा जाता है जो प्रजनन की प्रक्रिया में प्रत्यक्ष रूप से भाग लेते हैं।

● नर में वृषण व मादा में अंडाशय जनन अंग है।

● जनन अंगो का प्रमुख कार्य युग्मक निर्माण(Gamete Formation) होता है लेकिन ये लिंग होर्मोन (Sex Hormone)  का भी स्राव करते हैं।

● लिंग हॉर्मोन सहायक लैंगिक अंगो की वृद्धि , विकास, द्वितीयक लैंगिक लक्षणों के विकास में सहायक होते हैं।

reetprep e-books

Download FREE Biology Practice E -book

 

जनन होर्मोन 
(Sex Hormones) -: 

● जनन होर्मोन लैंगिक विकास व प्रजनन (Reproduction) में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है।

● जनन हॉर्मोन्स शरीर में उपस्थित ग्रन्थियों द्वारा स्रावित किये जाते हैं।

● लैंगिक लक्षणों के विकास में सहायक होते हैं।

 

Female Sex Hormones/ मादा जनन होर्मोन  -: 

● मादा में जनन होर्मोन अंडाशय (Ovaries) द्वारा स्रावित किए जाते हैं।

● मादा में अंडाशय (Ovary) प्राथमिक लैंगिक अंग है,जो अन्तः स्रावी ग्रन्थि के रूप में भी कार्य करता है।

● मुख्य मादा जनन होर्मोन – प्रोजेस्टेरोन , एस्ट्रोजन

 

1. प्रोजेस्टेरोन (Progesterone) -: 

● कार्पस ल्युटिम द्वारा इसका स्राव होता है।

●यह होर्मोन अंडाशय व प्लेसेंटा द्वारा स्रावित किया जाता है।

● अण्डोत्सर्ग (Ovulation) व गर्भावस्था के दौरान इसका स्तर अधिक होता है।

● यह होर्मोन शरीर को गर्भ अवस्था के लिए तैयार करता है।

● गर्भाशय की एंडोमेट्रियम परत को बनाए रखता है, जिससे गर्भ अवस्था बनी रहती है।

● प्रोजेस्टेरोन का कम स्राव शरीर मे मासिक चक्र को अनियमति कर देता है तथा गर्भ अवस्था के दौरान भी कठिनाई आती है (Complications During Pregnancy)

 

 

2. एस्ट्रोजन (Estrogen) -:  

● यह होर्मोन अंडाशय द्वारा स्रावित किया जाता है।

● यह यौवनारम्भ (Puberty) के दौरान लैंगिक विकास के लिए ज़िम्मेदार होर्मोन है।

● द्वितीयक लैंगिक लक्षणों का विकास के लिए ज़िम्मेदार।

 

Male Sex Hormone/नर जनन होर्मोन -: 

● नरों में वृषण प्राथमिक लैंगिक अंग होते है , तथा अन्तः स्रावी ग्रन्थि के रूप में भी कार्य करते हैं।

● वृषण कोश में एक जोड़ी वृषण स्थित होते हैं।

● नर जनन होर्मोन वृषण द्वारा स्रावित किया जाता है।

● नर  होर्मोन वृषण की अन्तराली कोशिकाओं (Leydig cells) द्वारा स्रावित होते हैं।

● नर जनन होर्मोन – टेस्टोस्टेरोन

 

1. टेस्टोस्टेरोन (Testosterone) -: 

● वृषण (Testes) द्वारा स्रावित ।

● नर जनन अंगो के विकास में सहायक ।

● यौवनारम्भ के दौरान द्वितीयक लैंगिक लक्षणों के विकास में सहायक ।

 

 

जनन होर्मोन के कार्य
(Functions Of Sex Hormones) -:

● लैंगिक लक्षणों (Sexual Characteristics) के विकास में सहायक।

● किशोरावस्था के दौरान नर वृषण व मादा अंडाशय परिपक्व हो जाते हैं , तथा ये परिपक्व जनन अंग (Gonads/ Sex organs) होर्मोन का स्राव करना शुरू कर देते हैं।

● ये जनन होर्मोन यौवनारम्भ के समय द्वितीयक लैंगिक लक्षणों का नर व मादा में विकास करते हैं।

● नरों (Males) में -: दाढ़ी -मूछ आना , Chest पर बाल आना, जनन अंगो पर Hair growth ।

● मादा में (Females) -: स्तन ग्रन्थियों का विकास (Mammary Glands), मासिक चक्र का प्रारंभ (Menstrual Cycle)

● प्रजनन (Reproduction) में सहायक।

 

IMPORTANT POINTS 

1. कार्पस ल्युटिम – अण्डोत्सर्ग के बाद ग्राफीयन फॉलिकल की कोशिकाओं से इस संरचना का निर्माण होता है। ● इससे स्रावित हार्मोन – प्रोजेस्टेरोन , एस्ट्रोजन , रिलैक्सिन

 

2. अण्डोत्सर्ग (Ovulation) – ग्राफी पुटक ( ग्राफीयन फॉलिकल) से द्वितीयक अंडाणु का मुक्त होना ही अण्डोत्सर्ग कहलाता है।

 

 

 

Biology  Links –

Fungi: Useful And Harmful Fungi Human Digestive System
Bacteria – Definition, Structure, Diagram, Classification Human Skeleton System
Virus – Discovery, Types, Diseases Components of Food l भोजन के मुख्य अवयव
Vaccine – Definition, Disvovery, Types, Importance Vitamins : Discovery, Types, Diseases
Nutrition – Modes Of Nutrition In Living Cell : Discovery, Types, Diffusion
Blood Vessels : Arteries, Veins, Capillaries Animal Cell – Types, Definition, Discovery, Structure, Functions
Modes of Excretion and Excretory Wastes l उत्सर्जन के तरीके व उत्सर्जी पदार्थ Infectious Diseases : Types, Causes & Preventions l संक्रामक रोग
Parts Of Plants l पौधों के विभिन्न भाग Nutrition in Plants l पादपों में पोषण

 

 

Biology Practice Questions –

General Science Biology Questions – 01
General Science Biology Questions – 02
General Science Biology Questions – 03
General Science Biology Questions – 04
General Science Biology Questions-05

 

 

Previous Year Papers-

REET level-2 Science Previous Year Questions

CTET level-2 Science Previous Year Questions(31 Jan. 2021)

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Comment