Periodic Table of Elements – आवर्त्त सारणी

What Is The Periodic Table?

The periodic table is an arrangement of all the elements. आवर्त सारणी रासायनिक तत्वों को उनकी संगत विशेषताओं के साथ एक सारणी के रूप में दर्शाने की एक व्यवस्था है।

आवर्त सारणी में रासायनिक तत्त्व परमाणु क्रमांक के बढ़ते क्रम में सजाये गये हैं 

Periodic Table Image

Periodic table
Periodic Table

Döbereiner’s Trieds/डोबराइनर के त्रिक

डोबराइनर ने तीन-तन तत्त्वों के समूह बनाए जिनके भौतिक एवं रासायनिक गुण समान थे। इन्हे डोबराइनर के त्रिक भी कहा जाता है।

तत्व परमाणु भार 
Li7
Na23
K39
तत्व परमाणु भार 
Ca40
Sr88
Ba137
तत्वपरमाणु भार 
Cl35
Br80
I127

Newlands’ Octave/न्यूलैंड का वर्गीकरण

अंग्रेज रसानज्ञ जॉन एलेक्जेंडर न्यूलैंड ने सन् 1865 में अष्टक नियम दिया जिसके अनुसार तत्त्वों को उनके बढते हुए परमाणु भार के क्रम में व्यवस्थित किया गया।

तत्व LiBeBCNOF 
परमाणु भार 791112141619 
तत्व NaMgAlSiPSCl 
परमाणु भार 23242728313235.5 
तत्व KCa      
परमाणु भार 3940      

Mendeleev Periodic Table /मेंडेलीफ की आवर्त्त सारणी

इस समय e,p,n. की जानकारी नहीं थी। आवर्त सारणी बनाने का श्रेय मेंडेलीफ को कहा जाता है।

मेंडेलीफ ने तत्त्वों को उनके बढ़ते हुए परमाणु भारों के क्रम में व्यवस्थित करने पर देखा कि एक निश्चित अन्तराल के बाद तत्त्वों के समान गुणों की पुनरावृत्ति(वापस Repeat) होती हैं।

मेंडेलीफ के अनुसार तत्त्वों के गुण धर्म उनके परमाणु भारों के आवर्ती फलन होते हैं।

मैण्डेलीफ ने आवर्त सारणी को क्षैतिज पंक्तियों तथा ऊर्ध्वाधर स्तम्भों में व्यवस्थित किया। उन्होंने ऊर्ध्वाधर स्तम्भों को वर्ग कहा तथा क्षैतिज पंक्तियों का आवर्त कहा ।

मैण्डलीफ ने अनुसार सारणी में वर्ग है जिन्हें दो उपवर्गों में विभाजित किया गया। मैण्डलीफ ने आवर्त 6 बनाए,जिन्हें पुन: श्रेणियों में बाटाँ गया।

मेंडेलीफ की आवर्त्त सारणी की कमियाँ-

  • (i) कुछ स्थानों पर परमाणुभार के बढ़ते क्रम का पालन नहीं किया।
  • (ii) कुछ समान गुण वाले तत्त्व अलग-अलग वर्ग में तथा असमान गुण वाले तत्त्व एक ही वर्ग में आ गये।
  • (iii) हाइड्रोजन को निश्चित स्थान नहीं दिया गया।
  • (iv) समस्थानिकों को स्थान नहीं दिया गया।

Modern Periodic Table/आधुनिक आवर्त सारणी

वर्ष 1913 में हेनरी मोजले ने आधुनिक आवर्त सारणी दी थी। इनके अनुसार परमाणुभार की तुलना में परमाणु क्रंमाक आवर्त सारणी में तत्त्वों को ज्यादा अच्छी तरह से प्रदर्शित करते हैं।

आधुनिक आवर्त सारणी के अनुसार ‘तत्त्वों के भौतिक तथा रासायनिक गुणधर्म उनके परमाणु क्रंमाकों के आवर्ती फलन होते हैं। ‘आधुनिक आवर्त सारणी में तत्त्वों को बढ़ते हुए परमाणु क्रमांक के आधार पर रखा गया है।

आधुनिक आवर्तसारणी को दीर्घ या लम्बा रूप भी कहा जाता है क्योंकि इस आवर्तसारणी का रूप बहुत ही सरल तथा मैण्डेलीफ की आवर्तसारणी की तुलना में ज्यादा विस्तृत है।

# इस आवर्त सारणी में 

  • क्षैतिज पंक्तियाँ – आवर्त(Period)
  • ऊर्ध्वाधर स्तम्भ – वर्ग (Group)

# आवर्त मुख्य ऊर्जा स्तर n (कोश) को निरूपित करते हैं।

प्रथम आवर्त में 2 तत्त्व होते हैंअतिलघुआवर्त
द्वितीय तथा तृतीय आवर्त में 8-8 तत्त्वलघु आवर्त
IV व V आवर्त में d कक्षक भी सम्मिलित होते है। इन दोनों आवर्तों में 18-18 तत्त्व होते हैंदीर्घ आवर्त
VI व VII आवर्त में f कक्षक प्रारम्भ होता है। अत: इनमें 32-32 तत्त्व सम्मिलित होते हैंअति दीर्घ आवर्त

बाह्यतम कोश में भरे हुए इलेक्ट्रोनों की संख्या के आधार पर इन तत्त्वों को 4 Blocks में वर्गीकृत किया जाता है।

S Blockक्षारीय धातु तथा क्षारीय मृदा धातु
P Blockनिरूपक तत्त्व (मुख्य तत्त्व)
D Blockसंक्रमण तत्त्व (Transition Elements)
F Blockअन्त: संक्रमण तत्त्व

S-Block

He 
LiBe
NaMg
KCa
RbSr
CsBa
FrRa

P – Block

BCNOF
AlSipSCl
GaGeAsSeBr
InSnSbTeI
TlPbBiPoAt

D – Block

ScTiVCrMnFeCoNeCuZn
YZrNbMoTcRuRhPdAgCd
LaHfTaWReOsIrPtAuHg

F- Block

f blook के एक-एक प्रारूपिक तत्त्व को आवर्त सारणी में लिखकर दो क्षैतिज पंक्तियों में अलग से 14-14 तत्त्वों को दर्शाया जाता है। इनमें पहली पंक्ति के तत्त्व लैन्थेनाइड व द्वितीय पंक्ति के बाद एक्टिनाइड कहलाते हैं।

क्षैतिज पंक्तियों में प्रथम पंक्ति के तत्त्व (4f श्रेणी के बाद, लैन्थेनम) लैन्थेनाइड तत्त्व कहलाते हैं तथा दूसरी पंक्ति के तत्त्व (5f श्रेणी के बाद, एक्टिनियम) एक्टिनाइड तत्त्व कहलाता हैं।

Note : आवर्त सारणी में यूरेनियम के बाद आने वाले तत्त्वों को परायूरेनियम तत्त्व कहते है।

Lanthanides/लैन्थेनाइड तत्त्व

The general electronic configuration of lanthanide is [Xe] 4f1-14  5d0-1 6s2

SymbolAtomic NumberElement NameElectronic configuration
    
Ce58Cerium[Xe] 6s25d14f1
Pr59Praseodymium[Xe] 6s24f3
Nd60Neodymium[Xe] 6s24f4
Pm61Promethium[Xe] 6s24f5
Sm62Samarium[Xe] 6s24f6
Eu63Europium[Xe] 6s24f7
Gd64Gadolinium[Xe] 6s25d14f7
Tb65Terbium[Xe] 6s24f9
Dy66Dysprosium[Xe] 6s24f10
Ho67Holmium[Xe] 6s24f11
Er68Erbium[Xe] 6s24f12
Tm69Thulium[Xe] 6s24f13
Yb70Ytterbium[Xe] 6s24f14
Lu71Lutetium[Xe] 6s25d14f14

Actinides/एक्टिनाइड तत्त्व

The general electronic configuration of Actinides is [Rn] 5f1-14  6d0-1 7s2

SymbolAtomic NumberElement NameElectronic configuration
Th90Thorium[Rn] 7s26d2
Pa91Protactinium[Rn] 7s26d15f2
U92Uranium[Rn] 7s26d15f3
Np93Neptunium[Rn] 7s26d15f4
Pu94Plutonium[Rn] 7s25f6
Am95Americium[Rn] 7s25f7
Cm96Curium[Rn] 7s26d15f7
Bk97Berkelium[Rn] 7s25f9
Cf98Californium[Rn] 7s25f10 
Es99Einsteinium[Rn] 7s25f11
Fm100Fermium[Rn] 7s25f12
Md101Mendelevium[Rn] 7s25f13
No102Nobelium[Rn] 7s25f14
Lr103Lawrencium[Rn] 7s26d15f14 
    

गुणों में आवर्तिता

आवर्त सारणी में तत्त्वों के इलेक्ट्रॉनिक विन्यास में कृमिक परिवर्तन होता है इसी के साथ तत्त्वों के गुणों में भी परिवर्तन दिखाई देता है। गुणों में इस क्रमिक परिवर्तन को गुणों में आवर्तिता कहते है। तथा इसे ही आवर्ती गुण कहते है।

जैसे :-

  • परमाणु त्रिज्या,
  • आयनिक त्रिज्या 
  • आयनन ऐन्थेल्पी,
  • इलेक्ट्रान लब्धि 
  • विद्युत ऋणता 
  • संयोजकता
  • परमाणु आकार 

 

Frequently Asked Questions on Periodic Table

Q.1 How many elements are there In periodic Table?
Ans. 118 Elements are present in the Periodic Table.

Q.2 What is the Symbol of Gold?
ans. Au

Q.3 Who Discovered Iodine?
Ans. Iodine was discovered by Bernard Courtois in 1811.

Q.4 What is the Symbol of Uranium?
Ans. U(92)

Leave a Comment